केयूराणि न भूषयन्ति पुरूषं हारा न चन्द्रोज्जवला, न स्नानं न विलेपन न कुसुमं नालड्कृता मूर्द्धजा: । वाष्येका समलड्करोति पुरूषं या संस्कृता धार्यते, क्षीयन्ते खलु भूषणानि सततं वाग्भूषणं भूषणम्।।
सूचनाः दिनांक   20.11.2016
उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान द्वारा दिनांक 29 नवम्बर 2016 को आई0ए0एम0 हाल, सिविल लाईन्स, बरेली में सोलह संस्कारों पर आधारित संस्कृत नाटक एवं "आज के युग में संस्कृत की उपादेयता" विषय पर व्याख्यान गोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में आप सभी लोग सादर आमंत्रित है।

उत्तरप्रदेशसंस्कृतसंस्थानस्य स्थापना संस्कृतभाषाया- संस्कृतवाड्मयस्य च संरक्षणाय प्रसाराय विकासाय च उत्तरप्रदेशप्रशासनेन 1976 तमे ख्रीष्टाब्दे दिसम्बरमासस्य 31 तमे दिनाड्के विहिता। संस्थानेन विशिष्ट-संस्कृत-विद्वांस: रचनाकारा: वेदपण्डिताश्च पुरस्कारप्रदानेन सम्मान्यन्ते। संस्कृत-पालि-प्राकृत-भाषाणां दुर्लभा: महत्वपूर्णहस्तलिखित- ग्रन्था: संरक्ष्यन्ते। संस्थानेन यथावसरे संस्कृतसंस्कृतिविषयेषु व्याख्यानायोजनानि विधीयन्ते। उत्तरप्रदेशसंस्कृतसंस्थानं समानधर्मिसंस्थाभि: सह विनिमयेन संस्कृतभाषाया: संस्कृतेश्च परिवर्धनाय कृतसंकल्पमस्ति। जनसामान्य के उपयोगार्थ संस्थान विषयक विस्तृत जानकारी हिन्दी भाषा के माध्यम से आगे/सूच्य पृष्ठों के माध्यम से प्रस्तुत है।